Home » Speech » राष्ट्रविरोधी ताकतों का समर्थन कर रही है कांग्रेस : श्रीकांत शर्मा

राष्ट्रविरोधी ताकतों का समर्थन कर रही है कांग्रेस : श्रीकांत शर्मा

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय सचिव श्री श्रीकांत शर्मा ने गुरूवार को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में राष्ट्रविरोधी ताकतों का समर्थन करने के लिए कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों तथा वामपंथी पार्टियों पर करारा प्रहार करते हुए कहा कि ये लोग जेएनयू जैसे प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान के माहौल को दूषित करने का प्रयास कर रहे हैं।

भाजपा सचिव श्री शर्मा ने कहा कि देश के संविधान ने देश के प्रत्येक नागरिक को अभिव्यक्ति की आज़ादी दी है लेकिन साथ ही, इस आजादी की एक लक्ष्मण रेखा भी तय की गई है। उन्होंने कहा कि 09 फरवरी, 2016 को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय परिसर में जो देशद्रोही नारे लगे, वह स्पष्ट रूप से हमारी एकता और अखंडता को चुनौती है और इन नारों का समर्थन सरासर देश के साथ गद्दारी है।

श्री शर्मा ने कहा कि जेएनयू परिसर में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की आड़ में जिस तरह से राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को अंजाम दिया गया, वह वास्तव में एक गंभीर चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि इन देशविरोधी नारों के खिलाफ देश भर में जबर्दश्त जनाक्रोश है। उन्होंने कहा कि ये नारे कठिन परिस्थितियों में भी देश की सीमा की सुरक्षा करनेवाले देश के जांबाज सिपाहियों और तिरंगे का अपमान है, ये नारे अपने प्राणों की आहुति देकर भी देश की एकता और अखंडता को अक्षुण्ण रखनेवाले देश के वीर शहीदों और उनके परिवारों का अपमान है, ये नारे देश के संविधान और महामहिम राष्ट्रपति का अपमान है।

भाजपा सचिव ने कहा कि देश को तोड़नेवाली इस विचारधारा के खिलाफ दलगत राजनीति से ऊपर उठकर एक साथ लामबंध होने की जरूरत है, समवेत स्वरों में इसकी कड़ी भर्त्स्ना की जरूरत है और इस तरह के राष्ट्रविरोधी तत्त्वों को कुचलने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि इसके बजाय, कुछ निजी स्वार्थ के चलते वामपंथी पार्टियां, कांग्रेस और उसके सहयोगी दल राजनीतिक दुर्भावना से ग्रस्त होकर इसपर घृणित राजनीति कर रहीं हैं।

श्री शर्मा ने कहा कि कुछ मुट्ठी भर हताश और निराश लोग देश के प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों के माहौल को खराब कर गरीब परिवार से आये छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये वही लोग हैं जिन्होंने वोट बैंक के लिए हमेशा देश को बांटने का काम किया है, ये वही लोग हैं, जो मोदी सरकार की सफलता को पचा नहीं पा रहे हैं, ये वही लोग हैं जो गरीबों के उत्थान और देश की तरकी के लिए अनवरत काम करनेवाली मोदी सरकार के खिलाफ लगातार झूठा दुष्प्रचार करते आ रहे हैं, ये वही लोग हैं जिन्होंने पुरस्कार वापसी का झूठा नाटक करके दुनिया भर में भारत की छवि को खराब करने की कोशिश की थी। उन्होंने कहा कि यह असहिष्णुता की पराकाष्ठा नहीं तो और क्या है? उन्होंने कहा कि इन लोगों की नीयत ही यही है कि देश को कैसे बांटा जाए और राजनीति की जाए।

भाजपा सचिव ने कहा कि भाजपा के ऊपर लगाए गए तमाम आरोप निराधार साबित हुए हैं और विपक्षियों को मुंह की खानी पड़ी है। श्री शर्मा ने कहा कि मोदी सरकार एक ‘विज़न’ को लेकर चल रही है जबकि गरीब विरोधी एवं विकास विरोधी कांग्रेस एंड कंपनी ‘टेलीविजन’ और ‘डिवीजन’ की राजनीति कर रही है। उन्होंने तमाम विपक्षी पार्टियों को चुनौती देते हुए कहा कि अगर आप में हिम्मत है तो आप देश के विकास और योजनाओं पर प्रतिस्पर्धा कीजिये जो आप करना नहीं चाहते। उन्होंने कहा कि भाजपा शासित तमाम राज्य विकास एवं तरक्की के रास्ते में दूसरे राज्यों से कहीं आगे हैं।

श्री शर्मा ने कहा कि जब जेएनयू में नारा लगता है – ‘पाकिस्तान जिंदाबाद, पाकिस्तान जिंदाबाद’ और ‘भारत तेरे टुकड़े होंगें – इंशा अलाह इंशा अल्लाह’ तो राहुल गांधी कहते हैं कि सबको अपनी बात कहने का हक़ है, जब नारा लगता है – ‘भारत की बर्बादी तक – जंग रहेगी, जंग रहेगी’ तो राहुल गांधी कहते हैं कि छात्रों ने जो महसूस किया, वो बोल रहे हैं, जब नारा लगता है – ‘तुम कितने अफज़ल मारोगे, हर घर से अफज़ल निकलेगा’ तो राहुल गांधी कहते हैं कि छात्रों की आवाज दबानेवाला देशद्रोही है। भाजपा सचिव ने कहा कि ऐसे देशद्रोही तत्त्वों को समर्थन देने के बावजूद राहुल गांधी कहते है कि मेरे खून में राष्ट्रवाद है। उन्होंने राहुल गांधी के इस वक्तव्य पर पलटवार कहते हुए कहा कि कांग्रेस का ये कौन सा खून है जो आतंकवादियों की मौत पर रात भर आंसू बहाता है और उसके प्रवक्ता व नेता आतंवादियों को ‘जी’ और ‘साहब’ कहकर सम्बोधित करते हैं। श्री शर्मा ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘कांग्रेस दर्शन’ तो कहता है कि आपके खून में तो फासीवाद है और आप कहते हैं कि आपके खून में राष्ट्रवाद है।

भाजपा सचिव श्री श्रीकांत शर्मा ने कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को आगाह करते हुए कहा कि आप देश के प्रतिष्ठित संस्थानों को राजनीति का अखाड़ा बनाने का कुचक्र ना करें, अपनी जहरीली राजनीति के लिए इन प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थानों को दूषित करने का प्रयास न करें और छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ न करें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अपने घृणित कार्य के लिए अविलंब देश से माफी मांगनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: